Tuesday, August 15, 2017

555. कैसी आज़ादी पाई (स्वतंत्रता दिवस पर 4 हाइकु)

कैसी आज़ादी पाई  
(स्वतंत्रता दिवस पर 4 हाइकु)  

*******  

1.  
मन है क़ैदी,  
कैसी आज़ादी पाई?  
नहीं है भायी!  

2.  
मन ग़ुलाम  
सर्वत्र कोहराम,  
देश आज़ाद!  

3.  
मरता बच्चा  
मज़दूर किसान,  
कैसी आज़ादी?  

4.  
हूक उठती,  
अपने ही देश में  
हम ग़ुलाम!  

- जेन्नी शबनम (15. 8. 2017)  

___________________________